Mandatory Publication Of Notice Of Intended Marriage Under Special Marriage Act Violates Right To Privacy says, Allahabad High Court| विशेष विवाह अधिनियम के तहत नोटिस का अनिवार्य प्रकाशन निजता के अधिकार का उल्लंघन : अदालत| Hindi News, देश


 अदालत ने अभिषेक कुमार पांडे द्वारा दाखिल एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि विशेष विवाह अधिनियम के तहत शादी के लिए 30 दिन पहले नोटिस का अनिवार्य प्रकाशन कराना स्वतंत्रता और निजता के बुनियादी अधिकार का उल्लंघन है. 

फाइल फोटो





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *